Jinnah: Bharat Vibhajan Ke Aine Mein (Hindi Edition)

3.71 avg rating
( 737 ratings by Goodreads )
 
9788170288374: Jinnah: Bharat Vibhajan Ke Aine Mein (Hindi Edition)
View all copies of this ISBN edition:
 
 

1947 में भारत का विभाजन बीसवीं सदी की सबसे दुखांत घटना थी, जिसके जखन अभी तक नहीं भरे। इसके कारण चार पीढियों की मानसिकता आहत हुईं। क्यों हुआ यह बंटबारा? र्कान इसके लिए उत्तरदार्या थे-जिन्ता, बनंप्रिस पार्टी अथबा अंग्रेज़? इस पुस्तक के लेखक जसवंत सिह ने इसका उत्तर खोजने की कोशिश को है-संभवत: कोई निश्चित उत्तर हो नहीं सकता, फिर भी अपनी ओर से पा ईमानदारी है र्खाज़ की है क्योंकि जिला जो र्गीकप्तीसमय हिन्दू-मुस्लिम एकला के पैरोकार थे केसे भारत में मुसलमानों के एकमात्र प्रवक्ता बने और पाकिस्तान के निर्माता और फिर क़ब्बयदे-क्षाज़म। इस परिवर्तन की प्रक्रिया केसे हुई? मुस्लिम एक अलग राष्ट्र हैं' यह प्रश्च कब और केसे उभरा और किस तरह भाया के विभाजन में इसकी परिणति हुई। पाकिस्तान क्रो यह विभाज न कितना भारी पडा? बंगलादेश क्यों बना और आज पाकिस्तान की स्थिति वया है? इन सब ज्वलन्त प्रश्नों की पाताल इस पुस्तक का विषय हैं 1 लेखक का विश्वास हैं कि र्वाक्षम्नइ एशिया में स्थायी शांति तभी होगी जब इस प्रश्न पर गंभीस्ता से विचार किया जाए कि यह सब को हुआ? अब तक किसी भारतीय या पाक्रिस्तस्वी राजनीतिज्ञ अथवा सांसद ने इस प्रश्न का र्रब्रेश्लेषण काते हुए जिन्ना की जीवनी नहीं लिखी। यह पुस्तक इस दिशा में सापेक्ष ओर ईंमानदारस्ता म्रयत्न है।

"synopsis" may belong to another edition of this title.

Buy New View Book
List Price: US$ 15.00
US$ 6.42

Convert currency

Shipping: US$ 9.63
From India to U.S.A.

Destination, rates & speeds

Add to Basket

Other Popular Editions of the Same Title

9788170288190: Jinnah: Bharat Vibhajan Ke Aine Mein

Featured Edition

ISBN 10:  8170288193 ISBN 13:  9788170288190
Publisher: Rajpal & Sons (Rajpal Publis..., 2009
Hardcover

Top Search Results from the AbeBooks Marketplace

1.

Singh, Jaswant
Published by Rajpal & Sons (2013)
ISBN 10: 8170288371 ISBN 13: 9788170288374
New Paperback Quantity Available: > 20
Seller:
BookVistas
(New Delhi, India)
Rating
[?]

Book Description Rajpal & Sons, 2013. Paperback. Condition: New. Printed Pages: 576. Seller Inventory # R&S-9788170288374

More information about this seller | Contact this seller

Buy New
US$ 6.42
Convert currency

Add to Basket

Shipping: US$ 9.63
From India to U.S.A.
Destination, rates & speeds

2.

Jaswant Singh
Published by Rajpal and Sons (2013)
ISBN 10: 8170288371 ISBN 13: 9788170288374
New Softcover Quantity Available: 1
Seller:
Irish Booksellers
(Portland, ME, U.S.A.)
Rating
[?]

Book Description Rajpal and Sons, 2013. Condition: New. book. Seller Inventory # M8170288371

More information about this seller | Contact this seller

Buy New
US$ 19.13
Convert currency

Add to Basket

Shipping: US$ 3.27
Within U.S.A.
Destination, rates & speeds

3.

Singh, Jaswant
ISBN 10: 8170288371 ISBN 13: 9788170288374
New Quantity Available: 1
Seller:
University Bookstore
(DELHI, DELHI, India)
Rating
[?]

Book Description Condition: New. This is Brand NEW. Seller Inventory # Rajpal & Sons-3032018-857

More information about this seller | Contact this seller

Buy New
US$ 12.20
Convert currency

Add to Basket

Shipping: US$ 10.50
From India to U.S.A.
Destination, rates & speeds

4.

JASWANT SINGH
ISBN 10: 8170288371 ISBN 13: 9788170288374
New Quantity Available: 1
Seller:
University Bookstore
(DELHI, DELHI, India)
Rating
[?]

Book Description Condition: New. This is Brand NEW. Seller Inventory # Prkash N-1392018-16327

More information about this seller | Contact this seller

Buy New
US$ 14.90
Convert currency

Add to Basket

Shipping: US$ 10.50
From India to U.S.A.
Destination, rates & speeds